ब्रेकिंग न्यूज़

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने 22 मार्च को जनता कर्फ्यू लगाने की घोषणा की

भारत 24tv न्यूज 19/03/2020 ये न्यूज जनहित में जारी की गई है


‘जनता कर्फ्यू ’क्या है? नरेंद्र मोदी की घोषणा का क्या मतलब है? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि जनता को कोरोना वायरस को रोकने के लिए लोगों पर कर्फ्यू लगाना चाहिए। उन्होंने इसका नाम जनता कर्फ्यू रखा है। उन्होंने सुझाव दिया कि लोग 22 मार्च को घर से बाहर न निकलें। उन्होंने कहा कि लोगों को रविवार को सुबह 7 बजे से 9 बजे तक बाहर नहीं होना चाहिए।
22 मार्च, रविवार को आपके पास एक शाम होगी। 5 वीं। सायरन बजने लगेगा। तो आइए हम दरवाजे पर, खिड़की पर, बालकनी में खड़े हों और सरकारी कर्मचारियों, डॉक्टरों को धन्यवाद दें। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि हमें घंटियों और घंटियों का शुक्रिया अदा करना चाहिए। यह बड़े पैमाने पर कर्फ्यू देश भर में लागू किया जाएगा। मोदी ने कहा कि लोगों को सरकारी कर्मचारियों का सम्मान करना चाहिए और इसमें भाग लेना चाहिए। हम यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठा रहे हैं कि देश में दूध, अनाज और दवाओं की कमी न हो। घबराएं नहीं और स्टॉक से बाहर निकलें। मोदी ने कहा कि ये सभी चीजें आगे भी जारी रहेंगी। जनता कर्फ्यू की बात कौन कर रहा है?
कई लोग जनता कर्फ्यू को लेकर ट्वीट करते रहे हैं। सांसद शशि थरूर, वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता, अभिनेता अजय देवगन, अक्षय कुमार, देवेंद्र फड़नवीस ने ट्वीट कर जनता कर्फ्यू लगा दिया है।
कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने फैसले का स्वागत किया। यह कठिन समय है। थरूर ने कहा कि कुछ और समाधान योजनाओं की जरूरत है। थरूर ने कहा कि हमें सामाजिक गड़बड़ी के साथ-साथ कुछ वित्तीय नियोजन की भी आवश्यकता है। विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने ट्वीट किया कि नरेंद्र मोदी ने संकल्प और धैर्य का संदेश दिया। फडणवीस ने कहा कि वह कोरोना के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार होंगे।
वरिष्ठ पत्रकार शेखर गुप्ता का कहना है कि यह एक महत्वपूर्ण निर्णय है। गुप्ता कहते हैं कि अगर भविष्य में यह पूरी तरह से बंद होने का समय है, तो यह एक रंगीन प्रशिक्षण हो सकता है। हम प्रधानमंत्री – कांग्रेस के साथ हैं
कांग्रेस नेता अजय माकन ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता और नेता भारत सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ हैं। माकन ने कहा कि कांग्रेस के सभी नेता कोरोना के खिलाफ लड़ने के लिए तैयार हैं। माकन ने मांग की कि कोरोना वायरस के परीक्षण के लिए सुविधाओं का विस्तार किया जाए।
लोगों के कर्फ्यू के बारे में माकन ने कहा कि अगर सरकार पूरे देश में तालाबंदी करना चाहती है, तो इसकी तैयारी अभी से शुरू कर देनी चाहिए। अगर कुछ महत्वपूर्ण घटनाक्रम हो रहे हैं तो सरकार को जनता को सूचित करना चाहिए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close